डीआरडीओ द्वारा एस.एफ.डी.आर. टेक्‍नोलाजी का सफलतापूर्वक परीक्षण

 रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन डीआरडीओ ने ओडिशा तट पर के पास चांदीपुर परीक्षण स्‍थल से मिसाइलों के प्रक्षेपण में इस्‍तेमाल की जाने वाली ठोस इंधन पर आधारित एस.एफ.डी.आर. टेक्‍नोलाजी का सफलतापूर्वक परीक्षण किया है।

 रक्षा मंत्रालय ने कहा कि बूस्टर मोटर और बिना नोजल वाली मोटर सहित मिसाइल की सभी प्रणालियों ने उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन किया और परीक्षण के दौरान, ठोस इंधन पर आधारित टेक्‍नोलाजी की क्षमता सिद्ध हो गई है।

 इस टेक्‍नोलाजी में महारत हो जाने के बाद भारत को हवा से हवा में मार करने वाली लंबी दूरी की मिसाइलों के विकास में मदद मिलेगी।

 इस समय इस तरह की टेक्‍नोलाजी दुनिया के कुछ गिने-चुने देशों के पास है। 


रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने एस.एफ.डी.आर. टेक्‍नोलाजी के सफल परीक्षण के लिए डीआरडीओ, भारतीय वायु सेना और रक्षा उद्योगों के वैज्ञानिकों को बधाई दी है।
Previous Post
Next Post
Related Posts